शनिवार, 16 जुलाई 2011

कहते हैं वो स्वर्गवासी हो गया...

आज ऐसे ही ज़िन्दगी और मौत के बारे में सोचते सोचते एक शब्द पर जाकर दिमाग थोड़ा सा रूक गया वो शब्द मिला स्वर्गवासी.जिसे हम सभी आमतौर पर तब प्रयोग करते है जब कोई इन्सान मर जाता है तो कहते हैं वो स्वर्गवासी हो गया.फिलहाल ये शब्द अपनी जगह कहीं से भी गलत नहीं है...पर क्या हमने कभी सोचा कि जिस चाहरदीवारी से बनी छत में हम रहते हैं उसे भी तो हम स्वर्ग ही कहते हैं और उस छत के नीचे रहने से हम वहां के वासी हुए...और अभी मन में प्रशन चल ही रहा था कि घर पर एक सज्जन आये हुए थे और अपने घर के बारे में बातें कर रहे थे तभी उनके मुंह से निकल पड़ा कि बेटा मेरा घर तो बिलकुल स्वर्ग जैसा है तो मैंने कहा अंकल तब तो आप स्वर्गवासी हुए बस इसी बात पर भड़क गए बोले तुम क्या कह रही हो ऐसा नहीं कहते...तो मैंने उन्हें उसके शब्द के अर्थों से समझाया तो हँसने लगे बोले हाँ सही है...ऐसे ही कई ऐसे शब्द हैं जो हम जाने अनजाने में प्रयोग कर देते है पर उसका सही अर्थ नहीं जान पाते,वो तो बड़े बड़े विद्वान ही समझ पाएंगे.

11 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut sundar post, sochane par vivash kartee huyee,shubhkamanayen

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिन शब्दों के अर्थ स्थापित हो चुके हों उसमें संशोधन से अर्थ का अनर्थ होना स्वाभाविक है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. bilkul sahee kahaa aapne Neha ji...
    wo kahaavat hai na...ek achhi patni ghar ko swarg bana deti hai....aur ghar walo ko swargvaasi...

    मेरी नई पोस्ट पे आपका स्वागत् है....
    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर पोस्ट बधाई और शुभकामनायें नेहा जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छा चिंतन है
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. उर्दू मैं जब कोई मर जाता है तो कहते है इन्तेकाल कर गए. इन्तेकाल शब्द का अर्थ है एक जगह से किसी दूसरी जगह चले जाना. अब आप के वही अंकल आप के घर से कहीं और चले गए तो आप कह सकते हैं कि वो इन्तेकाल कर गए .मतलब यहाँ से कहीं और चले गए. लेकिन यदि ऐसा कह दिया तो वो फिर से बुरा मान जाएंगे. क्यों कि जैसा कि मनोज जी ने कहा कि जिन शब्दों के अर्थ स्थापित हो चुके हों उसमें संशोधन से अर्थ का अनर्थ होना स्वाभाविक है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपसे बात से पूरी तरह सहमत....
    बेहतरीन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम्म ........बिलकुल वैसे ही.........जैसे मैंने अपने दोस्त से पुछा ......बोलो स्वर्ग जाओगे या नर्क......बोला नरक जाए मेरे दुश्मन......मैं तो स्वर्ग ही जाऊँगा......मै बोला ओके डन.......अच्छा अब ये बताओ कि मर कब रहे हो ??.......वो मेरी तरफ देखने लगा.......मैंने कहा देख क्या रहे हो......बिना मरे स्वर्ग जाओगे क्या .......और फिर सब हंसने लगे......

    उत्तर देंहटाएं