शुक्रवार, 25 मार्च 2011

विचारों का असंतुलन

 असंतुलित विचार 
हम सभी मनुष्य योनि में जन्म लिए है और हमसे सम्बन्धित हमारे चारों तरफ कई तरह के विषय हैं.हर विषय के साथ हमारे साथ सबसे बड़ा विषय मनोविज्ञान है जो मनुष्य पर सबसे ज्यादा हावी है.इसी के चलते हमारे विचार भी अलग अलग है.हम सभी एक दूसरे से अलग विचार,अलग दृष्टिकोण,अलग भावनाएं और अलग सोच भी रखते है.मै इस पूरे समाज कि बात क्या करू? अगर उदाहरण लें तो सबसे पहले अपने परिवार के सदस्यों के बारे में सोचें  जो हमारे सबसे ज्यादा नजदीक है.हम सभी एक दूसरे से अलग सोच रखते है.किसी के विचार,सोच एक दूसरे से नहीं मिलते .सबकी पसंद अलग होती हैं,सब अलग तरह से सोचते हैं.हम सभी किसी को अपनी सोच के अनुरूप बदल नहीं पाते बल्कि उनके साथ सामंजस्य बनाते हैं क्यूंकि रहना हमें उन्हीं के साथ है.हम उन्हीं की सोच के मुताबिक काम करते हैं.परिवार में माँ-बाप भाई-बहन सभी के विचारों में कोई संतुलन नहीं देखने को मिलता.एक बच्चे के बारे में माँ कुछ सोचती है वहीँ पिता कुछ अलग सोचता है और कभी कभी इसी सोच के चलते बच्चे दिग्भ्रमित हो जाते हैं.परिवार में किसी सामूहिक निर्णय पर भी सभी की पसंद भी अलग होती है.कभी कभी तो बिलकुल असमंजस की स्थिति सी दिखाई पड़ती है.
ये बिलकुल एक साधारण सी बात है जिस पर जल्दी निगाह नहीं जाती.

9 टिप्‍पणियां:

  1. "परिवार में किसी सामूहिक निर्णय पर भी सभी की पसंद भी अलग होती है.कभी कभी तो बिलकुल असमंजस की स्थिति सी दिखाई पड़ती है."
    इस असमंजस की स्थिति में भी दो तरह से निर्णय लिए जाते हैं -एक -परिवार के बाकी लोगों की उपेक्षा कर मुखिया (या परिवार के सब से प्रभावपूर्ण व्यक्ति द्वारा) अपने निर्णय को सर्वोपरि रखकर बाकी लोगों को मानने को बाध्य करना या दूसरा-बाकी सदस्यों की राय जानकर सर्वमान्य निर्णय लेने का प्रयास करना.
    मेरे विचार से असमंजस प्रारंभिक अवस्था है अंततः चाहे जैसे भी कोई न कोई निर्णय तो करना ही पड़ता है न.
    प्लस माइनस हर जगह होते हैं हमारे विचारों में,सोचने में भी और समझने में भी जो ज़रूरी भी है.

    यह लेख आपकी सोचने की गहन क्षमता को प्रदर्शित करता है.इसी तरह लिखते चलें.

    शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  2. vicharo ka alag alag hona manav prakriti hai.aur vichar uske past experience par depend karte hai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. विचारों की भिन्नता तो मानव के लिए स्वाभाविक है ... और इसी भिन्न्त्ता से निष्कर्ष निकला करते है .... अच्छी पोस्ट है

    उत्तर देंहटाएं
  4. यहाँ भी पधारें ... http://unbeatableajay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. yes,u r right. even the twins are having different
    personalities.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही बात है...लेकिन कितना भी विचारों में असंतुलन हो, मन में असंतुलन नहीं होना चाहिए..
    जैसे की मेरा एक मित्र, उसके और मेरे विचार काफी दफे अलग अलग रहते हैं और काफी बहस भी होती है हमारी, लेकिन फिर भी हम एकदूसरे से बहुत प्यार करते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं