बुधवार, 16 मार्च 2011

मेरा सबसे सच्चा साथी .....

आज मैंने अपने सबसे अच्छे और सच्चे दोस्तों को खोजना शुरू किया तो लगा कि जब मैं किसी को याद करती हूँ तभी वो दोस्त मुझे याद करते है जैसा की लोग कहते है कि ताली दोनों हाथों से बजती है, वही मैंने सोचा तो मुझे लगा कि हाँ आज इतनी भागती दौड़ती ज़िन्दगी में किसी को कहाँ फुर्सत है कि वो किसी को याद करे?अचानक से कुछ ख्याल आया और आँखों में आंसू आ गए  तो मुझे लगा शायद आपके  सबसे अच्छा साथी तो आपके आंसू हैं जो हर पल हर घड़ी सिर्फ आपके साथ ही होते हैं,वो चाहे ख़ुशी हो या गम वो हमेशा आँखों से सारी कहानी को बयां कर देते हैं.बहुत ख़ुशी और गहरे दुःख में ये आंसू ही आपकी मदद करते है.सभी ने कहा है कि रो लेने से दिल हल्का हो जाता है और ऐसा सच में है.आज हम सभी किसी को अपना नहीं कह सकते क्यूंकि मेरे हिसाब से जिस पर आप सबसे ज्यादा विश्वास करते है वो ही शख्स आपको धोखा दे जाता है,और दोस्ती में भी शायद ऐसा ही होता है दोस्त तो बहुत मुश्किल से मिलते है,लिस्ट तो बहुत लम्बी होती है पर उसमें से हमें खुद चुनना पड़ता है कि कौन अपना है कौन पराया है,और जब कोई दूर जाता है तब शायद ये आंसू ही होते हैं जो हमारी सबसे अच्छी मदद करते हैं.बहुत दिन बाद किसी से मिलने पर भी ये आंसू ख़ुशी के रूप में हमारी आँखों से निकल ही जाते हैं,तो मुझे लगा कि इससे अच्छा दोस्त और कोई नहीं जब वही दोस्त जिन्हें याद करने पर वो मुझे याद करते है और जब वो धोखा दे तो भी तो आंसू ही आते हैं.आपके मन का न हो या कोई बात बुरी लग जाये तो बस आंसू ही सबसे बड़ा सहारा होते हैं.
धन्यवाद् .

11 टिप्‍पणियां:

  1. @@@सबसे अच्छा साथी तो आपके आंसू हैं जो हर पल हर घड़ी सिर्फ आपके साथ ही होते हैं,वो चाहे ख़ुशी हो या गम वो हमेशा आँखों से सारी कहानी को बयां कर देते हैं.बहुत ख़ुशी और गहरे दुःख में ये आंसू ही आपकी मदद करते है...
    ऐसा है भी और नहीं भी---लेकिन पोस्ट लिखी है पूरे मन से,बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. hi neha ...gr8 wrote ..but what i think u write by only your side or u can say in one way looking .... i m very happy wid my frnds since last 10 year ...and there is always huge communication gap between us ...everything is that "u wanna cry or laugh ",u think and start one of them .

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबसे पहले होली पर्व की हार्दिक शुभकामना.
    रही बात आंसुओं की तो इनमे सच्चाई है. हम खड़े हैं संबंधों की भीड़ में , मगर संग हमारे तन्हाई है, दोस्ती के लिए एक तरफ़ा मोहब्बत का फलसफा अच्छा होता है. अपने दोस्तों की परवाह करते चलो, उनको याद करते रहो, अगर अपने ग़मों में वे हमें याद करते हैं और अपना राजदार बनाते हैं. तो इतना बहुत है. इसका मतलब है वे हम पर भरोसा करते हैं. फिर से होली की हार्दिक शुभकामना, गम के साथ खुशी के रंगों को भी मिलाकर देखो . जिन्दगी ,जिन्दगी हो जायेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Hi Neha,

    I seen ur blog and really liked it very much. Yes its true that building a friendship takes long long time........but when some one break it just in a moment it hurts........we really want to love some one and expect the same from him/ her.....It can't be one sided........

    Really loved ur writing......

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रवाहपूर्ण लिखा नेहा ..... बेहतरीन शब्द दिए मन के विचारों को.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. yar i don't know much about writing ant article but according to me ,things that make u happy do not need any excellence!!!
    so rather i don't know weather u use good vocabulary or not but it is please to read that ''mera sabse schha sathi''

    उत्तर देंहटाएं
  8. aapne sahi likha hai sachmuch in aansuo ke siva aur koi apna nahi hai...........................achchha laga. keep it up......

    उत्तर देंहटाएं